Home Health इंडोस्कोपिक स्पाइन सर्जरी के लिए विदेशों से भी आ रहे मरीज :...

इंडोस्कोपिक स्पाइन सर्जरी के लिए विदेशों से भी आ रहे मरीज : डॉ. त्रिवेदी

ब्यूरो : स्पाइन मास्टर यूनिट के सीनियर एंडोस्कोपिक स्पाइन सर्जरी डॉ. पंकज त्रिवेदी ने बताया पिछले कुछ सालों में स्पाइन सर्जरी का तरीका काफी बदल गया है। आज ज्यादातर स्पाइन सर्जरी एंडोस्कोप से होती है, जिसमें मरीज के बिना बेहोश किए 6मिमी के छोटे से चीरे से किया जाता है। और ऑपरेशन के तुरंत बाद मरीज अपने पैरों पर चलकर जाता है। एंडोस्कोपिक स्पाइन सर्जरी ने स्पाइन सर्जरी को डे केयर सर्जरी बना दिया है, लेकिन इस सर्जरी को सीखने में काफी मुश्किल आती है। इसलिए इस तरह से ऑपरेशन करने वाले लोग काफी कम है। और तो और काफी देशों में भी यह सर्जरी उपलब्ध नहीं है। डॉ. त्रिवेदी पिछले करीब 10 साल से इंडोस्कोपिक सर्जरी कर रहे हैं। नाजमुल हसन उम्र 33 साल जो कि बंगलादेश से हैं और सऊदी अरब में काम कर रहे हैं। पिछले काफी समय से कमर में दर्द से पीड़ित थे। साथ ही साथ बाएं पैर में भी काफी दर्द होता था। इस कारण से नाजमुल ज्यादा चल भी नहीं पाता था। 2 से 4 मिनट केवल चलने के बाद पैरों में काफी तेज दर्द होता था। नाजमुल सऊदी अरब से सिर्फ डॉ. त्रिवेदी से स्पाइन सर्जरी करवाने के लिए जालंधर स्पाइन मास्टर यूनिट में आकर इंडोस्कोपिक स्पाइन सर्जरी कराई। डॉ. त्रिवेदी ने बताया कि चौथा और पांचवा मनका स्लिप होने के कारण नाड़ी दब रही थी और डॉ त्रिवेदी ने केवल 28 मिनट में ऑपरेशन के बाद ऑपरेशन की जगह सिर्फ एक बेड लगी हुई थी ऑपरेशन के तुरंत बाद नजमुल के पैर का दर्द खत्म हो गया। अब करीब 1 घंटा चल सकते हैं डॉ. त्रिवेदी ने बताया कि सर्जरी की एक्सपर्ट देश में कुछ गिने-चुने लोगों के पास है साथ ही साथ इस तरह ऑपरेशन के लिए एक्सपीरियंस भी चाहिए। इस तरह के ऑपरेशन के लिए इसी कारण से विदेशों से भी विदेशी मरी जालंधर में उनके पास आकर ऑपरेशन करवा रहे हैं इंडोस्कोपिक स्पाइन सर्जरी 21वीं शताब्दी का सबसे अच्छा मरीजों के लिए गिफ्ट है।